Friday, November 13, 2009

यादेँ


आप आए मेरे ख्वाबोमे
सपनोमे छाए हो बाहरोमे
दिलकि हर धड्कनो मे
सासोँ मे हो हवा मे
बास आपिहो मेरे हर् दिशाओँमे


लिए जा राहाहुँ
आकेले
जिए जा राहाहुँ
आकेले

बस ढुंडरहा हुं आपको इन् फिजावोमे।

7 comments:

  1. Sweet and Short !
    Nepalimanharu.com

    Shiva Prakash

    ReplyDelete
  2. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य
    टिप्पणियां भी करें

    ReplyDelete
  3. स्वागत!
    बहुत खूब
    बधाई !आप का काम तो उच्चकोटि का है ही,संभावनायें असीम हैं।

    http://samaysrijan.blogspot.com

    http://swarsrijan.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. आपने नेपाली से हिंदी में शुरुआत की स्वागत है आपका ....अभी वर्तनी और टंकण की गलतियां हैं लिखते रहे .....!!

    ReplyDelete